• Breaking News

    सेना को हाई-टेक बलिस्टिक हेलमेट मिली, आतंकवाद के खिलाफ अभियान में मिलेगी मदद

    नई दिल्लीभारतीय सेना को हाई-टेक बलिस्टिक हेलमेट की पहली खेप मिली है। इनसे हमलों के दौरान सैनिकों की सुरक्षा बढ़ाई जा सकेगी। सैनिकों की ओर से अभी इस्तेमाल किए जाने वाले हेलमेट गोली और नुकीली वस्तुओं के सामने लगभग बेअसर साबित होते हैं। नए हेलमेट जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद विरोधी अभियानों और चीन से लगती सीमा पर तैनात सैनिकों को दिए जाएंगे।

    सेना चाहती है कि हेलमेट से सैनिकों के सिर को सुरक्षा मिलने के साथ ही उन्हें अभियान वाले स्थान की जानकारी भी मिले। इसके लिए सेना हेलमेट में कम्युनिकेशन डिवाइस, नाइट विजन डिवाइस और मैप दिखाने के लिए डिस्प्ले चाहती है।

    सूत्रों ने बताया कि 7,500 बलिस्टिक हेलमेट की पहली खेप की सप्लाई भारतीय डिफेंस कंपनी, MKU ने की है। यह संयुक्त राष्ट्र और नाटो को सैन्य उपकरण बेचती है। इसमें से 2,500 हेलमेट संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशनों में तैनात भारतीय सैनिकों को दिए गए हैं। बाकी के 5,000 हेलमेट भी जल्द ही सैनिकों को उपलब्ध होंगे। इसके अलावा डीआरडीओ की चंडीगढ़ में मौजूद टर्मिनल बैलिस्टिक्स रिसर्च लैबोरेटरी (टीआरबीएल) में 6,000 और हेलमेट का परीक्षण किया जा रहा है। टीआरबीएल सैन्य हथियारों के असर का आकलन करती है।

    MKU को सरकार से 1.58 लाख बलिस्टिक हेलमेट का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। केंद्र ने इनके सहित कुल 3.28 लाख बलिस्टिक हेलमेट खरीदने की मंजूरी दी है। डिफेंस मिनिस्ट्री के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'ये हेलमेट जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद विरोधी और पूर्वोत्तर में उग्रवाद विरोधी अभियानों में तैनात सेना की बटालियनों के साथ ही चीन और पाकिस्तान के साथ लगती सीमा पर तैनात सैनिकों को दिए जाएंगे।' इसके अलावा लगभग 14,000 हेलमेट नौसेना के लिए हैं।
    नई दिल्लीभारतीय सेना को हाई-टेक बलिस्टिक हेलमेट की पहली खेप मिली है। इनसे हमलों के दौरान सैनिकों की सुरक्षा बढ़ाई जा सकेगी। सैनिकों की ओर से अभी इस्तेमाल किए जाने वाले हेलमेट गोली और नुकीली वस्तुओं के सामने लगभग बेअसर साबित होते हैं। नए हेलमेट जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद विरोधी अभियानों और चीन से लगती सीमा पर तैनात सैनिकों को दिए जाएंगे।

    सेना चाहती है कि हेलमेट से सैनिकों के सिर को सुरक्षा मिलने के साथ ही उन्हें अभियान वाले स्थान की जानकारी भी मिले। इसके लिए सेना हेलमेट में कम्युनिकेशन डिवाइस, नाइट विजन डिवाइस और मैप दिखाने के लिए डिस्प्ले चाहती है।

    सूत्रों ने बताया कि 7,500 बलिस्टिक हेलमेट की पहली खेप की सप्लाई भारतीय डिफेंस कंपनी, MKU ने की है। यह संयुक्त राष्ट्र और नाटो को सैन्य उपकरण बेचती है। इसमें से 2,500 हेलमेट संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशनों में तैनात भारतीय सैनिकों को दिए गए हैं। बाकी के 5,000 हेलमेट भी जल्द ही सैनिकों को उपलब्ध होंगे। इसके अलावा डीआरडीओ की चंडीगढ़ में मौजूद टर्मिनल बैलिस्टिक्स रिसर्च लैबोरेटरी (टीआरबीएल) में 6,000 और हेलमेट का परीक्षण किया जा रहा है। टीआरबीएल सैन्य हथियारों के असर का आकलन करती है।

    MKU को सरकार से 1.58 लाख बलिस्टिक हेलमेट का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। केंद्र ने इनके सहित कुल 3.28 लाख बलिस्टिक हेलमेट खरीदने की मंजूरी दी है। डिफेंस मिनिस्ट्री के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'ये हेलमेट जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद विरोधी और पूर्वोत्तर में उग्रवाद विरोधी अभियानों में तैनात सेना की बटालियनों के साथ ही चीन और पाकिस्तान के साथ लगती सीमा पर तैनात सैनिकों को दिए जाएंगे।' इसके अलावा लगभग 14,000 हेलमेट नौसेना के लिए हैं।

    No comments:

    Post a Comment

    सिनेजगत

    जरा हटके

    Alexa

    ज्योतिष

    Followers