• Breaking News

    मंदसौर में किसानों का आंदोलन हुआ हिंसक, 8 से 10 गाड़ियां जलाई

    इंदौरः मध्य प्रदेश  में चल रहे किसानों के प्रदर्शन ने मंगलवार को हिंसक रूप ले लिया। मंदसौर में धरने पर बैठे किसानों पर पुलिस ने फायरिंग की जिसमें 6 किसानों की मौत हो गई जबकि 3 जख्मी हो गए। वहीं आज इस आंदोलन ने और उग्र रूप ले लिया। किसानों ने फिर से प्रदर्शन किया और 8-10 वाहनों में आग लगा दी। फायरिंग के विरोध में किसान संगठनों और कांग्रेस ने बुधवार को मध्यप्रदेश बंद का ऐलान किया है। राहुल गांधी और हार्दिक पटेल बुधवार को मंदसौर पहुंचेंगे। वे किसानों से मुलाकात भी करेंगे। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में किसान आंदोलन हिंसक होने के कारण प्रशासन ने पिपल्या मंडी पुलिस थाना क्षेत्र में मंगलवार को कर्फ्यू लगा दिया। इसके साथ ही जिले के अन्य इलाकों में निषेधात्मक आदेश लागू किया गया है।
    कलेक्टर  के कपड़े फाड़े
    इस घटना को लेकर स्थानीय लोगों में भारी गुस्सा देखा जा रहा है। मंदसौर में प्रदर्शनकारियों ने कलेक्टर स्वतंत्र सिंह के साथ धक्का-मुक्की की और उनके कपड़े तक फाड़ दिए। प्रदर्शनकारियों ने उन्हें और उनके साथ मौजूद अन्य अधिकारियों को वहां से खदेड़ दिया। प्रदर्शनकारी कलेक्टर और एसपी के इतनी देर से पहुंचने को लेकर नाराज थे। हालांकि कलेक्टर ने कहा कि किसानों के खिलाफ कोई फायरिंग नहीं की गई है बल्कि उन्हें हर कदम उठाने सा आश्वासन दिया गया है।

    इंदौर में आज आधे दिन का बंद
    राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ ने बुधवार को आधे दिन प्रदेश बंद का आह्वान किया है। बंद को देखते हुए इंदौर पुलिस-प्रशासन ने हाईवे, मुख्य मार्ग और शहर में एंट्री प्वाइंट्स पर 1100 से ज्यादा जवानों को लगाया है।

    स्कूलों में की छुट्टी
    गर्मियों की छुट्टियों के बाद कुछ सरकारी और निजी स्कूल 6 जून से खुल गए थे लेकिन जिला प्रशासन ने बुधवार को फिर से छुट्टी के आदेश जारी कर दिए हैं।
    इंटरनैट सेवाओं पर भी बैन
    मंदसौर में किसानों पर पुलिस की फायरिंग के बीच प्रशासन ने इलाके में इंटरनैट सेवाओं पर भी बैन लगा दिया है। मंदसौर रतलाम और उज्जैन में इंटरनैट सेवा पूरी तरीके से बंद कर दी गई है, साथ ही बल्क मैसेज करने पर भी पाबंदी लगा दी गई है।

    मारे गए किसानों को 1 करोड़ देगी शिवराज सरकार
    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंदसौर हिंसा में मारे गए किसानों के परिजनों के लिए एक-एक करोड़ रुपए व गंभीर रूप से घायलों को पांच-पांच लाख रुपए की सहायता राशि देने का ऐलान किया है। इसके अलावा मृतक किसानों के परिवार में से एक सदस्य को नौकरी भी दी जाएगी। सीएम शिवराज ने मंदसौर की घटना को अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए ट्वीट किया कि घायलों के इलाज की जिम्मेदारी प्रदेश सरकार उठाएगी। शिवराज ने किसानों से धैर्य रखने की अपील करते हुए कहा कि वे किसी के बहकावे में न आएं।

    किसानों की सरकार से मांगें
    -सरकारी डेयरी द्वारा दूध खरीदी के दाम बढ़ाए जाएं।
    -फसलों का उचित दाम किसानों को मिलें।
    -स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू की जाएं जिनमें कहा गया है कि किसी फसल पर जितना खर्च आता है, सरकार उसका डेढ़ गुना दाम दिलाए।
    -1 जून से शुरू हुए आंदोलन में जिन किसानों के खिलाफ केस दर्ज किए गए हैं, उन्हें वापस लिया जाए।
    -मध्यप्रदेश के किसानों की कर्जमाफी

    वाजिब मांगें मान ली गईं: शिवराज
    शिवराज ने कहा कि किसान भाइयों की सभी वाजिब मांगें मान ली गई हैं और इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। शिवराज ने कहा, 'मेरी सरकार किसानों की सरकार है। हमारी सरकार ने सदैव किसानों के हित में आगे बढ़कर कार्य किए हैं।

    किसानों के साथ ‘युद्ध’ में है सरकार: राहुल
    कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्यप्रदेश के मंदसौर में फायरिंग में आंदोलनरत किसानों की मौत की घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार देश के किसानों के साथ ‘युद्ध’ की स्थिति में है। उन्होंने ट्वीट पर लिखा, ‘‘भाजपा के न्यू इंडिया में हक मांगने पर अन्नदाताओं को गोली मिलती है।’’

    बता दें कि मध्य प्रदेश के किसानों ने फसल के वाजिब दाम सहित 20 सूत्रीय मांगों को लेकर 1 जून से 10 जून तक आंदोलन की घोषणा की है।

    No comments:

    Post a Comment

    सिनेजगत

    जरा हटके

    Alexa

    ज्योतिष

    Followers